विश्व होम्योपैथिक दिवस आयोजित

आयुष मेडिकल आर्गेनाइजेशन एवं बनारस होम्योपैथिक डॉक्टर्स एसोसिएशन के संयुक्त तत्वाधान में आज दिनांक 10 अप्रैल को महात्मा हैनिमन की 267 वी जयंती के अवसर पर सिगरा स्थित डॉक्टर ए के मिश्रा के आवासीय सभागार सिगरा पर विश्व होम्योपैथिक दिवस का आयोजन किया गया।
शुभारंभ सर हैनिमैन जी की मूर्ति पर माल्यार्पण एवम दीपांजली के साथ हुआ ।

होम्योपैथिक विषयक संगोष्ठी में उत्तर प्रदेश के होम्योपैथिक मेडिसिन बोर्ड के सदस्य डॉ बृजेश कुमार सिंह ने मुख्य अतिथि पद से संबोधित करते हुए कहा की होम्योपैथिक की रोग निवारण क्षमता और जनता में इस पद्धति के बढ़ते विश्वास के कारण कहा जाता जा सकता है कि भविष्य की स्वास्थ्य चिकित्सा होम्योपैथी ही है।

आयुष मेडिकल के अध्यक्ष सुभाष श्रीवास्तव ने होम्योपैथी की विशेषता पर प्रकाश डाला।

सचिव डॉक्टर वीरेंद्र सिंह जी ने स्वास्थ्य चुनौतियों तथा होम्योपैथी विषयक संगोष्ठी में 21वीं शताब्दी की सबसे बड़ी त्रासदी कोरोना बीमारी में बचाव एवं चिकित्सा पर प्रकाश डाला।

होम्योपैथिक चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर ए के मिश्रा ने कहा कि विश्व में भारत ही होम्योपैथी की राजधानी है।
इसलिए हमारी जिम्मेदारी सबसे अधिक है ।
डॉक्टर दीपक तिवारी जी ने महात्मा हैनिमैन जी के जीवनी पर प्रकाश डाला ।

डॉ जी पी राय अध्यक्ष बनारस होम्योपैथिक डॉक्टर्स एसोसिएशन ने अतिथियों का स्वागत एवं आभार व्यक्त किया।

अंत में अपने प्रिय पदाधिकारी उपाध्यक्ष डॉ बीडी पांडे जी के दिवंगत आत्मा की शांति के लिए 2 मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दिया गया।

इस अवसर पर प्रमुख रूप से डॉ दीपक तिवारी, डॉ आर एस कश्यप, डॉक्टर ए के सिंह ,डॉक्टर एस बी चौहान ,डॉ आर के सिंह ,डॉक्टर धनंजय कुमार ,डॉक्टर प्रतिमा सिन्हा, डॉक्टर एस के पांडे ,उपेंद्र राय, डॉक्टर संजय मिश्रा, विश्व पाल सिंह, रश्मि सिंह , डॉक्टर ज्ञानेंद्र राय आदि उपस्थित रहे।

What do you think?

भारतीय नव वर्ष के उपलक्ष्य मे संस्कृति जागरण का कार्यकर्म रखा

लक्ष्य ग्लोबल पब्लिक स्कूल मे गीता के विषय मे,नैतिक शिक्षा,संस्कृति संरक्षण शिक्षा के कार्यक्रम