पता नहीं क़िस्मत का धनी आशीष है या सुरक्षा में तैनात रवि मीना।

ये आशीष चतुर्वेदी हैं। मध्य प्रदेश में हुए बहुचर्चित व्यापम घोटाले के गवाह। कई गवाहों की हत्त्या हो जाने के कारण कोर्ट के आदेश पर इन्हें सुरक्षा दी गई है। आशीष के पास पुरानी एटलस साईकल है। सुरक्षाकर्मी उसी को पूरे दिन खीचता रहता है। दोनों में आपसी तालमेल अच्छा बैठा हुआ है। सुरक्षाकर्मी जब हाफ जाता है तो आशीष उन्हें साईकल के पीछे बैठाकर खुद चलाने लगते हैं।….पता नहीं क़िस्मत का धनी आशीष है या सुरक्षा में तैनात रवि मीना।

What do you think?

सौभाग्य योजना के कनेक्शन धारकों का जबरिया कमर्शियल 2 किलो वाट में बदलने से उपभोक्ताओं में नाराजगी,

लालगंज कोतवाली थाने में बैरक के अंदर सिपाही आशुतोष यादव का खून से लथपथ मिला शव। सिपाही की मौत बनी पहेली।